1 जुलाई से रेलवे में कई बदलाव Reviewed by Momizat on . पटना. राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों में पेपरलेस मोबाइल टिकटिंग की व्यवस्था लागू होगी। यानी, इन ट्रेनों में सफर करनेवाले यात्रियों को कागज पर छपे हुए पटना. राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों में पेपरलेस मोबाइल टिकटिंग की व्यवस्था लागू होगी। यानी, इन ट्रेनों में सफर करनेवाले यात्रियों को कागज पर छपे हुए Rating: 0
You Are Here: Home » Business News » 1 जुलाई से रेलवे में कई बदलाव

1 जुलाई से रेलवे में कई बदलाव

1 जुलाई से रेलवे में कई बदलाव

पटना. राजधानी और शताब्दी एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों में पेपरलेस मोबाइल टिकटिंग की व्यवस्था लागू होगी। यानी, इन ट्रेनों में सफर करनेवाले यात्रियों को कागज पर छपे हुए टिकट नहीं मिलेंगे। टिकट उनके मोबाइल पर रहेगा। यह व्यवस्था एक जुलाई से लागू हो सकती है। इसके अलावा मल्टी लिंगुअल रिजर्वेशन टिकट और सुविधा ट्रेन शुरू करने के साथ ही कुछ महत्वपूर्ण ट्रेनों के बदले उस नाम की डुप्लीकेट ट्रेन चलाने की भी योजना है। यही नहीं, तत्काल टिकट रिफंड कराने पर किराए की 50 फीसदी राशि रिफंड होगी। साथ ही तत्काल टिकट बुकिंग के समय में भी बदलाव किया गया है।

पूर्व मध्य रेल के सीपीआरओ अरविंद कुमार रजक के अनुसार एसी और स्लीपर श्रेणियों की टिकट बुकिंग अलग-अलग समय पर शुरू होगी। एसी कोच के लिए टिकट बुकिंग सुबह 10 बजे से और स्लीपर श्रेणी के लिए तत्काल टिकट 11 बजे से मिलेगा। यह बदलाव 15 जून से होगा। साथ ही सुबह आठ बजे से 8.30 बजे तक प्राधिकृत रेलवे एजेंटों के लिए सामान्य टिकट बुकिंग पर रोक होगी। यानी, सुबह 10 से 11 बजे के बीच सिर्फ एसी कोच में सीटें बुक की जा सकेंगी। इसके बाद सुबह 11 से 12 बजे के बीच स्लीपर कोच के लिए तत्काल टिकटों की बुकिंग होगी।

रेलवे बोर्ड के मेंबर के मुताबिक, पेपरलेस मोबाइल टिकटिंग की सुविधा का फायदा उठाने के लिए सेंटर फॉर रेलवे इन्फॉर्मेशन सिस्टम (सीआरआईएस) की ओर से विकसित किए गए ऐप को अपने फोन पर डाउनलोड करना होगा। पेपरलेस टिकटिंग धीरे-धीरे रिजर्व्ड और अनरिजर्व्ड-दोनों श्रेणियों में लागू की जाएगी। लेकिन सबसे पहले शताब्दी और राजधानी ट्रेन में लागू होगी। मोबाइल ऐप के जरिए इस सुविधा को देने से पहले रेलवे रिजर्वेशन वाले टिकट के कैंसिल कराए जाने पर पैसे वापस करने के उपायों की भी समीक्षा कर रहा है। यह योजना शुरू होने के बाद रेलवे 600 टन कागज की बचत कर सकेगा, जो प्रिंटेड टिकट देने और रिजर्वेशन चार्ट बनाने में इस्तेमाल होता है।

About The Author

Number of Entries : 3374

Leave a Comment

You must be logged in to post a comment.